CSS Kya Hai – What is CSS in Hindi

What is CSS in Hindi? आज के इस लेख में आप जानेंगे के CSS क्या है और इसे क्यों इस्तिमाल किया जाता है. जैसे की हम सभी को इस बात का पता है की आज कल एक अच्छी नौकरी पाने के लिए कितना struggle करना पड़ रहा है. Struggle करने के बाद भी जब एक नौकरी मिलती है तो उसकी salary हमारे काबिलियत से कम मिलती है जिसके लिए हम बहुत निराश रहते हैं.

ऐसे में बहुत लोग अपना खुद एक व्यापर शुरू कर लेते हैं जहाँ मेहनत भी उतनी ही लगती है जितना दूसरी जगह नौकरी करने में लगती है लेकिन वहां के मुकाबले यहाँ पैसे दुगने कमाने लगते हैं. व्यापर भी सिर्फ वोही लोग कर सकते हैं जिनके पास invest करने के लिए ज्यादा पैसे रहते हैं मगर जिनके पास वो भी नहीं रहते फिर उनके पास नौकरी करने के अलावा और कोई रास्ता नहीं रहता.
लेकिन असल में एक और रास्ता है जिसमे हमें ज्यादा पैसे invest करने की जरुरत भी नहीं पड़ती और जिसके जरिये हम घर बैठे ही बहुत पैसे कमा सकते हैं, वो रास्ता है online व्यापर करने का जिसे हम blogging केहते हैं. Blogging करने के लिए हमारे पास computer और internet के साथ साथ बहुत से ज्ञान की जरुरत है जो एक website बनाते वक़्त काम आती है, और जो सबसे जरुरी चीज है वो है HTML. HTML क्या है इसके ऊपर मैंने एक लेख लिखा है आप चाहे तो वहां से इसकी जानकारी हासील कर सकते हैं.

HTML के साथ साथ और भी कई चीजों का इस्तेमाल हम webpage बनाने के लिए करते हैं जैसे CSS, Java Script, PHP, etc. आज इस लेख में मै आपको CSS क्या है इसके बारे में बताने वाला हूँ.

CSS क्या है – What is CSS in HTML in Hindi

CSS का पूरा नाम है cascading style sheet. एक webpage को बनाने के तकनीक के पीछे HTML और CSS का बहुत बड़ा हाथ है. HTML के इस्तेमाल से webpage को एक आकार मिलता है और CSS के इस्तेमाल से webpage को एक नया और आकर्षक रूप मिलता है. HTML और CSS हमेसा साथ में ही इस्तेमाल किये जाते हैं. CSS के बिना हम html का इस्तेमाल कर सकते हैं मगर html के बिना css का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है.
HTML और CSS एक computer language है जो की बहुत सरल है और जिसे आसानी से सिखा जा सकता है. html और css के code को लिखने के लिए हमे एक text editor की जरुरत होती है जैसे की Notepad. इन codes को लिख लेने के बाद इसे internet के द्वारा देखने के लिए एक web browser की जरुरत होती है.
HTML में बहुत से tag का इस्तेमाल किया जाता है जैसे header tag <h1>, font tag <font>, table tag <table>, image tag <img> etc. इन सभी tags को browser में और भी अच्छी तरह से दिखाने के लिए css का साथ में इस्तेमाल किया जाता है.

CSS के इस्तेमाल से हम webpage के text को अच्छे रंग में दिखा सकते हैं, fonts के styles और paragraph के बिच के space को control कर सकते हैं, background के images को और background में कौनसे रंग के इस्तेमाल से webpage को अच्छा look मिलेगा ये सभी चीजों को set करने के लिए css का इस्तेमाल किया जाता है. css html के document पूरी तरह से नया रूप दे देता है जिससे users ज्यादा आकर्षित होते हैं.

1) CSS वक़्त बचाता है– एक html के webpage में use किये गए style को हम दुसरे बहुत सारे web page में इस्तेमाल कर सकते हैं वो भी css के code को सिर्फ एक बार लिख कर. हमे अलग अलग web page को बनाने के लिए बार बार css का code लिखना नहीं पड़ेगा. और सिर्फ एक ही बार लिखे हुए css code का हम इस्तेमाल करके जितने चाहे उतने web pages बना सकते हैं, जिसमे हमारा काफी वक़्त बच जाता है.
2) Page को जल्दी load होने में मदद करता है– अगर हम css का इस्तेमाल करते हैं तो हमे html के tag के attributes को बार बार लिखने की जरुरत नहीं पड़ती. बस एक बार css के rule के हिसाब से tag के attributes को लिख कर web page में apply कर देने से वो tag हर जगह सही रूप से दिखने लगेगा. इसलिए tag को web page में अलग अलग जगह पर दिखने के लिए बार बार एक ही code को लिखना नहीं पड़ेगा, और कम code होंगे तो web page browser में जल्दी load होगा.
3) Maintain करने में आसान– web page के style को पूरी तरह बदलने के लिए बस एक बार css के style के code को बदलने से html में use हुए सभी elements अपने आप ही एक साथ बदल जायेंगे और एक एक करके सभी elements को बदलने की जरुरत नहीं पड़ेगी.
4) Platform independent है– platform independent का मतलब है की css का इस्तेमाल हम किसी भी platform में कर सकते हैं जैसे windows, linux, macintosh etc. और ये सभी latest browser को भी support करता है.
ये था CSS और उससे जुडी कुछ जानकारी जिसका इस्तेमाल web page बनाने के लिए होता है. आशा करता हूँ आपको इस लेख से What is CSS in Hindi (CSS क्या है) के बारे में काफी मदद मिली होगी. अगर आपको इससे जुडी और कुछ जानकारी चाहिए तो आप निचे comment कर सकते है.

CSS का इतिहास – History of CSS in Hindi

CSS को आप HTML की छोटी बहन मान सकते हैं. क्योंकि HTML के बाद ही CSS का भी जन्म होने लगा था. वैसे तो HTML और CSS के जन्म में कई सालों का अंतर हैं. लेकिन, उसी दशक में ही CSS का जन्म हो गया था.

CSS का जनक श्री Hakon Wium Lie हैं. इन्होने ही सबसे पहले 1994 में CSS Rules को बनाया था. और इसके बाद W3C – World Wide Web Consortium द्वारा CSS Level 1 को दिसबंर 1996 में प्रकाशित किया गया. यह CSS का पहला Version कहलाया.

CSS Version 1 से अब तक CSS के तीन और Versions को प्रकाशित किया जा चुका हैं. जो क्रमश: CSS Level 2, CSS Level 2.1 और CSS Level 3 हैं. CSS3 इसका नवीनतम (Latest Version) संस्करण हैं.

आपने क्या सीखा?

इस Lesson में आपने जाना कि CSS क्या है. CSS का इतिहास और CSS Versions की जानकारी भी आपको दी गई हैं. हमे उम्मीद है कि यह Lesson आपके लिए उपयोगी साबित होगा.

Free Exclusive Traffic Tips

About the Author: Dharmendra Yadav

Hy I Am Dharmendra Yadav.. I Am a Web Enthusiast, System Specialist, Web Devloper, Graphic Designer, Professional Blogger, Certified Search Engine Optimizer & Cyber Expert,,,, From India....

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *